अमरूद की मुख्य किस्में हिंदी में-Types of guavava in hindi,Guavava farming,Types,Amrood ki kheti-Daily hindi education

Main Varieties of Guavava in Hindi  । अमरूद की मुख्य किस्में ।


अन्य फलों की तरह अमरुद भी एक मशहूर फल है जो कि भारत के लगभग सभी क्षेत्रों में पाया जाता है। अमरूद कई तरह की औषधियों में भी प्रयोग किया जाता है और इसका जूस निकाला जाता है जिसे लोग बहुत शौक से पीते हैं। 
यदि देखा जाए तो अमरूद की भी बहुत सी किसमें होती हैं। अमरूद की विभिन्न किस्मों में आपको अमरूद के विभिन्न गुण देखने को मिलेंगे। 
अपनी किस्मों मैं यह रंग रूप, स्वाद, आकार, फल की छमता और अन्य गुणों के आधार पर एक दूसरे से विभिन्न होते हैं। 
Guava sardar,Types of guavava ,Apple amrood,World famous guavava fruit, Benefits of guavava,Generatic guavava,Guavava can cure,Guavava image,Pink Guavava fruit,Lucknow 49 guavava,Allahabad Guavava,अमरूद के फायदे,अमरूद,Amrood .


                        अमरूद की किस्में
1. लखनऊ 49 ( अमरूदों का सरदार) :  इस अमरूद को इसके कुछ गुणों के कारण  इसे अमरूदों का सरदार भी कहा जाता है । अमरूद की इस किस्म की और  किसान बहुत जल्दी आकर्षित होते हैं। क्योंकि इस अमरुद से उन्हें अत्यधिक फसल प्राप्त होती है। यदि बात की जाए तो इसके गुणों की तो यह आकार में बड़ा होता है और इसका वजन लगभग 500 ग्राम तक का भी हो जाता है ज्यादातर अमरूदों में इसका वजन 250 से  300 ग्राम तक  पाया जाता है।
यह आकार में गोल अंडाकार जैसा  होता है।
इसकी त्वचा खुरदरी होती है और यह ज्यादातर पीले रंग का पाया जाता है।
यदि अंदर की बात की जाए तो इसका गुर्दा अंदर से मुलायम तथा स्वाद में मीठा होता है।
इस की भंडारण क्षमता अन्य अमरूदों की तुलना में काफी बेहतर होती है।
इसमें उठ का रोग का प्रकोप अन्य अमरूदों की तुलना में कम होता है।
यदि बात की जाए तो इसके पत्तों की तो इसके पत्ते आकार में बड़े होते हैं ।

2. चित्ती दार : अमरूद की यह प्रजाति ज्यादातर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पाई जाती है। यदि बात की जाए तो इसके गुणों की तो इसमें बहुत से गुण देखने को मिलते हैं जैसे कि उचच मिठास, मुलायम गूदा, अंदर से सफेद, अमरूदों  की इस प्रजाति में अन्य अमरूदों की तुलना में उच्च मिठास पाई जाती है। परंतु इस प्रजाति में विटामिन सी की मात्रा कम पाई जाती है।
3. एप्पल कलर:  एप्पल कलर अमरूद की यह किस्म दिखने में गोल तथा छूने में मुलायम होती है। अंदर से यह सफेद रंग का होता है।
इसकी सतह  हरि तथा गुलाबी होती है। इसके भंडारण की क्षमता मध्य होती है।
4. सफेद जाम ( इलाहाबाद सफेदा/ कोहिर) : फल अनुसंधान केंद्र, संगारेड्डी द्वारा विकसित शंकर किस्म है। पेड़ ऊंचाई में मध्य होते हैं तथा उपज देने में उच्च होते हैं। यदि इसके फल के गुणों की बात की जाए तो इसका फल मुलायम पतले छिलके वाला और बीज में मुलायम होता है।
5. अर्का अमुल्या ( इलाहाबाद सफेदा/ बेदाना) : अर्का अमूल्या भी इलाहाबाद सफेदा की एक किस्म है जो कि काफी मशहूर है। इसमें दानों की मात्रा बहुत कम पाई जाती है। अमरूद की यह संकर किस्म भारतीय बागवानी अनुसंधान संस्थान, बेंगलुरु द्वारा विकसित की गई है। इस वृक्ष की भंडारण क्षमता अत्यधिक होती है। वजन में इसका फल 200 ग्राम तक होता है। इनके अंदर 13% गूदा  होता है।
6. अर्का मिर्दुला :  अमरूद की यह किस्म मध्यम आकार में पाई जाती है। इसकी सतह चिकनी तथा मुलायम होती है। अंदर से यह सफेद रंग का पाया जाता है और  इसके बीज मुलायम होते हैं। यह अमरुद मीठा तथा इसमें विटामिन सी की मात्रा अधिक होती है। फलों की भंडारण क्षमता मध्य होती है।
Guava sardar,Types of guavava ,Apple amrood,World famous guavava fruit, Benefits of guavava,Generatic guavava,Guavava can cure,Guavava image,Pink Guavava fruit,Lucknow 49 guavava,Allahabad Guavava,अमरूद के फायदे,अमरूद,Amrood .

7. इलाहाबाद सफेदा: अमरूद की यह किस्म भी काफी प्रसिद्ध है। इस अमरूद का आकार गोल तथा वजन में 180 से 200 ग्राम तक का होता है। इस फल की सत्ता है चिकनी होती है तथा गुदा मुलायम होता है। इस अमरूद का छिलका पीला तथा गूदा सफेद होता है। यह मिठास में काफी बेहतर होता है और भंडारण क्षमता इसकी अच्छी होती है।
8. ललित ( लाल अमरूद) : यह फल आकार में मध्य तथा रंग में केशर पीले रंग के होते हैं। जो कि देखने में काफी आकर्षक लगते हैं। जिसके कारण यह किस्म  संरक्षित प्रदाथो को बनाने हेतु उपयुक्त होती है। अमरूद की यह किस्म इलाहाबाद सफेदा से लगभग 25% अधिक उपज देती है। इसके फल का वजन 250 से 300 ग्राम तक का होता है। यह फल खाद्य तथा पेय  दोनों पदार्थों में काम आता है।

Post a comment

2 Comments

Please do not enter any spam link in the comment box.